Mata Jawala Devi Temple । माता जवाला देवी मंदिर - MY GENIUS BRAND

Mata Jawala Devi Temple । माता जवाला देवी मंदिर

जय माता जवाला देवी,

माता जवाला देवी की मान्यता सदियों से है । यहां माता जवाला की ज्योत सदियों से अखण्ड रूप में जल रही है बिना की किसी घी तेल के । यह मंदिर 51 शक्तिपीठों में से एक है ।

यहां माता सती की जिव्हा गिरी थी. दूर दूर से लोग यहां माता जी के दर्शन को आते हैं ।

यह मंदिर हिमाचल प्रदेश के जवालामुखी में स्थित है। यहां माता की ज्योत धरती से निकलती है । 9 माता की ज्योति निकलती है जिनमे से एक प्रमुख ज्योत है। माता जवाला जी को ज्योता वाली माता भी कहा जाता है ।

कई विग्यानिको ने इस ज्योत के रहस्य को जानने के लिए यहां हजारो मीटर धरती के नीचे खुदाई तक कर डाली क्योंकि विग्यानिको का मानना था कि धरती के नीचे गैस भंडार है जिससे हजारों सालों से ये ज्योत जल रही है ।

पर माता के चमत्कार को वैगयानिक नही पहचान सके और हजारों मीटर नीचे खुदाई के बाद भी उन्हे कुछ नही मिला. । उसके बाद वैज्ञानिक भी इस चमत्कार को मान गए ।

इस मंदिर में माता शक्ति के साथ भगवान शिव भी भैरव के रूप में स्थित । मौजूद मंदिर का निर्माण पहले राजा भूमिचंद ने करवाया । 1835 में इस मंदिर का मुख्य ढांचा महाराजा रणजीत सिंह और राजा संसार चंद ने बनवाया । ब्रिटिश राज में भी मंदिर के रहस्य को जानने के लिए कई प्रयास किये गए पर उनके हाथ भी कुछ नही लगा ।

एक बार अकबर को इस मंदिर में जल रही ज्योत के बारे में पता चला तो उसने इस ज्योत को भुजाने की भरपूर कोशिश की पर वो असमर्थ रहा । और माता की शक्ति को सरमस्तक होके माना । और सवा मन सोने का छत्र लेके माता के दरबार में पहुंचा ।

पर माता ने उसका छत्र स्वीकार नही किया और छत्र चमत्कारी तौर पे सोने से पीतल का हो गया । जो आज भी माता के दरबार मे पड़ा है ।

माता के दरबार की कथाओं में ध्यानु भक्त की कथा भी आती ध्यानु भक्त जी ने अपना शीश काट के माता को चढ़ा दिया था ।

पौराणिक कथाओं के अनुसार गोरखनाथ जी माता के भक्त थे और यहां आए और भूख लगने पर माता को कहा कि आप पानी गर्म करके रखो तब तक मैं भिक्षा मांग के आता हूँ । जब गोरखनाथ भिक्षा मांगने गए और लौटकर नही आये।

यहां पानी गर्म किया वो कुंड अभी भी मौजूद है. और पानी हमेशा गर्म रहता है। पर चमत्कारी रूप से उस पानी के बीच हाथ डालने से हाथ कभी नही जलता । इस कुंड को गोरखनाथ की डिब्बी कहा जाता है ।

जो भक्त सच्चे मन से माता जी से जो भी मांगता है वो उसे मिल जाता है ।

जय माता जवाला देवी ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.